नया क्या?

शनिवार, 13 दिसंबर 2008

गिनती ज़िन्दगी की

बच्चे थे तो टॉफियाँ गिना करते थे,
थोड़े बड़े हुए तो दोस्त गिना करते थे,

स्कूल पहुंचे तो हाथों पर छड़ियाँ गिना करते थे,
कॉलेज आए तो मार्क्स गिना करते थे,

थोड़े और बड़े हुए तो गर्ल-फ्रेंड्स गिना करते थे,
नौकरी लगी तो तरक्कियां गिना करते थे,

शादी हुई तो बच्चे गिना करते थे,
फैक्ट्री लगाई तो रूपए गिना करते थे,

दादा बने तो पोते गिना करते थे,
आज जा रहे हैं इस दुनिया से

और साँसे गिनने की घड़ी आ गई है..
सोच रहा है क्या सिर्फ़ गिनते गिनते ही ज़िन्दगी निकाल दी ?
काश कभी इन उँगलियों पर उसका नाम भी गिना होता
जिसने यह गिनती बनाई है,

अब क्या फायदा ?
क्या फायदा अब सोचने से ?
साँसों का दामन तो छूट रहा है ....
और साथ-साथ दो आंसुओं की कीमत भी गिन रहा हैं...

10 टिप्‍पणियां:

  1. काश कभी इन उँगलियों पर उसका नाम भी गिना होता
    जिसने यह गिनती बनाई है,
    भाई बहुत खूब...सच कहा है आपने...कमाल की रचना....
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. Vineet Pandey se is blog ka link mila...

    pehle hi kavita mein mazaa aa gaya...ending zordaar thi jo is kavita ke liye zaroori tha...bahut achhe

    shuruvaat ke lines mein thoda critical hone ki gunjaaish hai par wo fir kabhee... :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. iske saath aapko apne blog pe bhi aamantrit karna chaoonga:
    www.pyasasajal.blogspot.com

    Pilani mein Hindi poets bhi hai...badhiya hai :) :P

    उत्तर देंहटाएं
  4. @ pyaasa sajal...dhanywaad..
    agar kuch aur achha likhne ki gunjaeesh hai to zaroor bataiyega...aur haan pilani mein bahut se poets hain jo hindi mein likhte hain...bas baat itni hai ki filhaal main hi blog kar raha hoon...
    @ alpana ji
    dhanywaad...

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रतीक ये कविता तो सिर्फ़ एक बहाना है
    तुमने सही में छोटे से उम्र में ही जीवन के कडुए स्वाद को पहचाना है
    उम्मीद करता हूँ की अब तुम्हारी और भी जीवन से जुड़ी कविताएँ आएँगी
    और हमें ज़िन्दगी को जीने के अहमियत की व्याख्या कराएँगी

    उत्तर देंहटाएं
  6. Namaste! Bahut hi sunder likha hai aapne!! Jaankar prasannata hui ki ab tak ye 'naveen' angreji maadhyam shikha ka daur Hindi ke prati lagav samaapt karne mein safal nahin hua aur ab bhi log itni hrdayavedak kavitaayen likhte hein :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. सोच रहा है क्या सिर्फ़ गिनते गिनते ही ज़िन्दगी निकाल दी ?
    काश कभी इन उँगलियों पर उसका नाम भी गिना होता
    जिसने यह गिनती बनाई है,



    baht sundar aur gehen bhav
    padh kar bahut acha laga badhai

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल 29/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..