नया क्या?

सोमवार, 3 अक्तूबर 2011

मौत से ज़िन्दगी

मनोज, एक सीधा-साधा मेहनती इंसान... कॉलेज से प्रथम श्रेणी में स्नातक और फिलहाल नौकरी पेशा..
घर पर माँ, एक छोटा भाई और एक छोटी बहन का पूरा बोझ उसके ऊपर..

प्रथम श्रेणी से पास होने के बावजूद एक मामूली नौकरी मिली थी बड़े शहर में.. कुछ से अपना गुज़ारा चलाता और बाकी घर पर भेजता..
बहन की शादी और छोटे भाई के लिए एक दुकान खोल के देने की अंतर-इच्छा थी पर इस नौकरी के भरोसे संभव नहीं था..

कुछ साल बीते तो सर पर जिम्मेवारी मार करने लगी.. अब थोड़ा तंग-तंग रहने लगा था.. और ना ही उसकी काबिलियत के मुताबिक़ उसे नौकरी मिल रही थी...
शहर के दोस्त सिर्फ शहरी थे, दिली नहीं.. किसी से अपना दुःख नहीं बाँट पाता और दिन-ब-दिन परेशानी से घिरता जा रहा था...
कभी-कभी अखबार पढ़ता तो पता चलता कि फलां दुर्घटना में पीड़ित के परिवार को ५ लाख मिले.. फलां बम धमाके में मृत के परिजनों को ७ लाख मिले..

सोचता, कि कभी उसके साथ भी ऐसा हो जाए तो इतने पैसों से उसकी अंतर-इच्छा शायद पूरी हो जाए.. आत्महत्या के लिए कोई पैसे नहीं मिलते थे पर सरकारी दुर्घटना में ज़िन्दगी को चंद पैसों में तोला जाता था जो कि मनोज के परिवार के लिए बहुत था...

पर उसे क्या खबर थी कि यह सोच एक दिन सच्ची खबर में बदल जाएगी..
घर लौट रहा था और ट्रेन दुर्घटना में ज़िन्दगी ने मौत को गले लगाया और फिर सरकार ने मृत के परिवार को ५-५ लाख रूपए धनराशी देने की घोषणा की...

आज एक मौत ने तीन जिंदगियों को जान दी थी पर क्या यही एक रास्ता था? क्या ज़िन्दगी, मौत की मोहताज हो गयी थी?
शायद मनोज के लिए इसके अलावा कोई विकल्प न था और उसका उत्तर "हाँ" ही होता...

26 टिप्‍पणियां:

  1. मार्मिक .... जीवन किसी के मौत का म्ह्ताज़ हो गोया ... पर ये पैसा लेने में कितना दर्द हुवा होगा परिवार को ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. भोपाल गैस त्रासदी की यादें ताज़ा हो गयीं...जो मर गये...वो बच गये...बाकि मुआवज़े के लिए भटकते रहे...

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी कभी तो सरकारी घोषणा घोषणा ही रह जाती है। ऐसे में एक जगह चार बेमौत मरते हैं :(

    उत्तर देंहटाएं
  4. बड़े कष्ट हैं इस दुनियां में .....
    प्रभावशाली रचना !
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत मार्मिक कहानी..

    www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. मर्मस्पर्शी लघुकथा
    जिंदगी जीने के लिए पहले मरना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. maut ka bhi ilaj ho shayad ,
    zindgi ka koi ilaj nahi ...

    chintan ko majboor karti laghu katha

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'shayad uska javab haan hota '
    kya kahen aaj jeevan maout se sasta hai aur uski kimat maout se kam
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्या ज़िन्दगी, मौत की मोहताज हो गयी थी?
    मार्मिक ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. bhule nahi hai kuch bhi..surakh kuch is tarah se aih..us dabi si chingari mein dil rakh kuch is tarah se hai!sashkt lekhan!

    उत्तर देंहटाएं
  11. Rashni Ji sahi kahti hain.. Ye humare samaj ki vidambana hai.. Kuchh aur kahne blog par aaya tha.. Kah raha hun Marmik.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. दुखद प्रसंग.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत मार्मिक कहानी..
    मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं आपके साथ हैं !

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..