नया क्या?

गुरुवार, 26 मई 2011

सुख-दुःख के साथी

कॉलेज खत्म होने में बस कुछ ही दिन बाकी थे.. और हर किसी कि तरह सबको ये गम सता रहा था कि अब पता नहीं कब मुलाक़ात हो...
और सही भी था.. एक शहर में रहकर मिलना मुश्किल हो जाता है तो दूसरे-दूसरे शहरों में रहने वालों कि तो बात ही क्या..

राहुल और मोहित काफी अच्छे दोस्त थे पर दोनों कि नौकरी अलग-अलग शहरों में थी... उन्हें भी पता था कि अब किस्मत की बात है जब उनकी अगली मुलाक़ात हो..

कई साल बीत गए और राहुल की सगाई हुई और उसने मोहित को बुलाया.. पर नौकरी में व्यस्त रहने के कारण वह पहुँच नहीं पाया..
राहुल ने शादी में आने की पक्की बात कही और मोहित राज़ी भी हुआ.. पर बिलकुल अंतिम समय में उसे काम से विदेश यात्रा करनी पड़ी और वह फिर से राहुल कि ख़ुशी में शामिल ना हो सका..
अगला शुभ अवसर राहुल की बेटी होना था और इस बार मोहित खुद की शादी होने के कारण नहीं जा पाया..
राहुल को अब बहुत बुरा लगा कि हर ख़ुशी के मौके पर मोहित नहीं आता है पर वह भी इसके लिए कुछ कर नहीं सकता था...

फिर एक दिन कई सालों बाद मोहित राहुल के दरवाज़े पर खड़ा था.. अवसर इस बार भी था पर राहुल ने ज्यादा लोगों को बताया नहीं था.. मोहित को भी नहीं...
राहुल के पिता का निधन हो गया था और उसके सामने मोहित, उसका परम-मित्र खड़ा था उसके साथ, उसके दुःख में..
वह मित्र जो उसकी किसी ख़ुशी में शामिल नहीं हो पाया था पर दुःख में उसके कंधे पर हाथ रख कर सांत्वना देता हुआ खड़ा था...
राहुल ज्यादा कुछ बोल नहीं पाया.. आश्चर्य से कुछ क्षण देखता रहा और फिर रोने लगा..

आज उसे एक गीत बिलकुल विपरीत मालूम हो रहा था - "सुख के सब साथी, दुःख में न कोई"

30 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर और प्रेरक कथा, दुख में साथ रहना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. असल दोस्त की पहचान तो दुख में ही होती है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोस्त हो तो ऐसा...दोस्तों की बेवफाई के चर्चे ज्यादा होते हैं...पर सच्चे दोस्त भी होते हैं...जो किस्मत वालों को मिलते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  4. Dear Prateek,I liked every thing in yr blog,you,yr songs and presentation and the sentimental article on friendship.
    Yr blog is fine,well planned and full of imagination.My best wishes for a bright future.I want to know in detail about you.I am a Professor in Hindi in Govt TRSCollege Rewa MP.My contact no is 9425898136.
    yours sincerely
    dr.bhoopendra

    उत्तर देंहटाएं
  5. असल दोस्त की पहचान तो दुख में ही होती है| सुन्दर और प्रेरक कथा|

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक पोस्ट ..सच को समझने और कहने का आपका अंदाज निराला है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही भावपूर्ण कहानी ! किसीने सच ही कहा है ,"A friend in need is a friend indeed." पिता के निधन के समय मोहित के आने पर राहुल को जितनी सांत्वना और भावनात्मक सपोर्ट मिला होगा वह उसके विवाह में सम्मिलित होने पर शायद नहीं मिलता ! मित्रता को परिभाषित करती एक सुन्दर कथा !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर ! सच है कि सच्चा मित्र हमेशा दुःख के घडी में साथ रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच्चा दोस्त तो वही है जो दुःख में भी साथ दे...

    प्रेमरस.कॉम

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच तो यह है की भले ही खुशी के अवसर पर शामिल न हो पर दुःख के समय जो शामिल हो वही सच्चा दोस्त है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बुरे वक्त पर सही दोस्त ही सामने आते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर कहानी, सुख मे तो सभी मित्र होते हे, असली कसोटी तो दुख मे होती हे, धन्य्वाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. BAHUT BHAVPOORN TAREEQE SE APNI BAT KAHI AP NE ,,,DUNIYA AAJ BHI AISE HI LOGON KE BAL PAR CHAL RAHI HAI AUR SACHCHI DOSTI SE BADH KAR TO KOI NEMAT HI NAHIN

    उत्तर देंहटाएं
  14. दोस्त व दुश्मन का फ़र्क जरुरत पडने पर पता चल जाता है,

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुख हो या दुःख, साथ रहना चाहिए ! एक उम्दा पोस्ट !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    उत्तर देंहटाएं
  16. Prateek dil ko choo lene vali rachna hai aapki .badhai swikar kare .

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रेरक लघु कथा....
    सच्चा मित्र तो वाही होता है जो दुःख की घड़ियों में साथ दे |

    उत्तर देंहटाएं
  18. prateek ji aaj din me aapka blog dekha aur aapke lekhan aur aawaz ne itna prabhavit kiya ki main use ye blog achchha laga par liya hai.aap yadi kuchh samay nikal kar hamare is blog par upasthit honge to hame khushi hogi.blog ka url hai-
    http://yeblogachchhalaga.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्रेरक ... दोस्ती की मिसाल तो दुःख के बादल आने पर ही मजार आती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. prateek ji isi ko to dosti kehte hain
    sukh me bhale hi na aa paye par dukh me saath nibhaye :)
    bahut sundar prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  21. शशक्त और सारगर्भित कहानी ..किसी के सुख में एक बार को शामिल न भी हो पाओ कोई बात नहीं लेकिन दुःख में शामिल हो सको ऐसी कोशिश करनी चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  22. यूँ भी खुशी आप सब के साथ बाँट लेंगे पर दर्द बांटने के लिए कुछ खास ही लो... .अपने लगते हैं

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..