नया क्या?

गुरुवार, 10 दिसंबर 2009

कुछ अपने मन की

वो महफ़िल में आये,
और दिल-ए-महफ़िल को चुरा ले गए..
आलम ऐसा हुआ इस महफ़िल का,
हम पानी को शराब समझकर पी गए...



हम निकले थे ज़माने को अपना बनाने..
हम निकले थे ज़माने को अपना बनाने..
पर पूरी कायनात में कोई बेगाना ही ना मिला...



इन हसीनों के भंवर में ना पड़ बन्दे,
तू हो जाएगा कंगार..
फिर याद आएगा, पी.एम. ने कहा था..
जितनी लम्बी चादर..उतने ही पैर पसार..



हर इंसान को देख कर दिल कुढ़ा जा रहा है,
हर दिल दिन-दिन मरा जा रहा है..
और आप कहते हैं..
"तुम जियो हज़ारों साल-साल के दिन हों पचास हज़ार?"

4 टिप्‍पणियां:

  1. हम निकले थे ज़माने को अपना बनाने..
    हम निकले थे ज़माने को अपना बनाने..
    पर पूरी कायनात में कोई बेगाना ही ना मिला...

    वाह! बहुत सुंदर पंक्तियाँ..... बहुत अच्छी लगी यह कविता....

    --
    www.lekhnee.blogspot.com


    Regards...


    Mahfooz..

    उत्तर देंहटाएं
  2. PM... i can sense the feelings behind it.. aakhir tum bhi ek 21-22 saal ke furstaye hue hi bande ho...
    isi furstation ko kaafi aachi terah poem ke form me kaha... dil ki baat,no bakwaas!!!

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..