नया क्या?

बुधवार, 22 दिसंबर 2010

एक लम्हां

सुधीर और सलोनी एक ही कॉलेज से पढ़े थे और एक दूसरे को कॉलेज के दिनों से जानते थे..
पसंद एक दूसरे को दोनों करते थे पर कभी इज़हार नहीं किया.. एक दूसरे के बोलने का इन्तज़ार करते रहे..

एक बार सलोनी किसी व्यावसायिक यात्रा पर सुधीर के शहर आई तो दोनों ने मिलने का कार्यक्रम तय किया..

दोनों मिलकर बहुत खुश हुए और कुछ वक्त गुजरने के बाद दोनों ने लॉन्ग ड्राईव पर जाने की सोची..
कार में दोनों चल पड़े और कुछ देर में सुधीर का मोबाइल बजा.. उसने अनायास ही कार चलाते-चलाते मोबाइल उठा कर बात शुरू कर दी कि अचानक से सामने चल रही ट्रक ने ब्रेक लगा दिए..

इससे पहले कि सुधीर कुछ समझता.. उसकी कार भिड़ चुकी थी..

अस्पताल में जब आँखें खुली तो पता चला कि सलोनी इतनी बुरी तरह से ज़ख़्मी हुई है कि बस अब जान मात्र ही बची है.. न सुन सकती है, न देख सकती है, न बोल सकती है.. जिंदा लाश बन गयी थी वो..

सुधीर अपनी जिंदगी को कोसते हुए उस एक लम्हें को तलाशता रहा जब वह सलोनी को फिर से जिंदगी दे सके, अपने दिल की बात कह सके.. 
और सलोनी अपनी किस्मत पे तरस खाते हुए उस एक लम्हें को तलाशती रही जब वह अपने दिल की बात सुधीर को बता सके..

पर अब ऐसा नहीं हो सकता था...
उस एक लम्हें की एक छोटी सी भूल, एक छोटा सा लम्हां, आज दोनों को बेबस और अपंग बना गया था..

17 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद मार्मिक किन्तु सचेत करता हुआ आलेख।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही सिख दिया है तुमने. पर मैं इससे पूरी तरह सहमत नहीं हूँ. कभी-कभी दिल की बात कह देने से रिश्ते और बिगड़ जाते हैं. उसके बाद ऐसा अफ़सोस होता है की काश मैंने ये सब न बोला होता, काश सब कुछ पहला जैसा हो जाये! जरुरी नहीं की हमारे दिल में जो है, वो सामने वाले के भी दिल में हो.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ... ufffff ... behad maarmik chitran ... prabhaavashaalee post !!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर शब्दों की बेहतरीन शैली ।
    भावाव्यक्ति का अनूठा अन्दाज ।
    बेहतरीन एवं प्रशंसनीय प्रस्तुति ।
    हिन्दी को ऐसे ही सृजन की उम्मीद ।
    धन्यवाद....
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया सचेत करता आलेख।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़ी मार्मिक कहानी,

    मन को मत रोको, बह जाने दो,
    कह पाये जो, कह जाने दो।

    उत्तर देंहटाएं
  7. यदि ये दुर्घटना शादी के बाद होती तो क्या सुधीर सलोनी को छोड़ देता ?
    सलोनी के इन हालातों में सुधीर द्वारा प्यार का इज़हार करना और सलोनी को एक पत्नी के रूप में अपनाना कहानी का सही और मानवीय end होता.
    वैसे भी दुर्घटना का कारण सुधीर की गाड़ी चलाते वक़्त लापरवाही थी.
    end पर पुनर्विचार करियेगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. दुखद स्थिति तक पहुँचाने वाली गलती जहाँ से कोई वापसी नहीं होती...काश हो पाए...

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रिय बंधुवर प्रतीक माहेश्वरी जी
    नमस्कार !

    आपके ब्लॉग की कई प्रविष्टियां अच्छी हैं । ब्लॉग ख़ूबसूरत भी है … बधाई !
    एक लम्हा मर्मस्पर्शी लघुकथा है …
    एक लम्हा … एक पल … एक क्षण … बहुत महत्वपूर्ण है भाई ।

    ~*~नव वर्ष २०११ के लिए हार्दिक मंगलकामनाएं !~*~

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  10. दर्दनाक अंत लिए मर्मस्पर्शी कथा.

    प्रवीण जी की बात दोहराते हुए-
    -मन को मत रोको, बह जाने दो,
    कह पाये जो, कह जाने दो।

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना से हट कर नववर्ष की ढेरों हार्दिक शुभभावनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  12. नये वर्ष की अनन्त-असीम शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. स्थिति चाहें जो हो ये गलती नहीं करना था ।बेहद मर्मस्पर्शी !

    उत्तर देंहटाएं
  14. मकर संक्राति ,तिल संक्रांत ,ओणम,घुगुतिया , बिहू ,लोहड़ी ,पोंगल एवं पतंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं........

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..