नया क्या?

बुधवार, 2 जून 2010

एक दृढ़ फैसला?

मोहित एक सर्वगुण और सम्पूर्ण परिवार का लाडला बेटा था | बड़ा भाई डॉक्टर बन गया था और बड़ी बहन भी अपनी पढ़ाई पूरी कर के अपने ससुराल जा चुकी थी | मोहित पिछले ५ सालों से बाहर ही था और अपनी पढ़ाई ख़त्म करके वो वापस घर आया था |

मोहित में बदलाव ज़बरदस्त था और उसके सोचने-समझने-परखने की शक्ति लाजवाब हो गयी थी | कॉमर्स लेकर पढ़ने के बाद भी उसका रुख अपने देश, अपनी मातृभूमि के लिए कुछ कर गुजरने का था | वह केवल बोलना और सुनना नहीं चाहता था.. कुछ करना भी चाहता था | कुछ अनुभवी लोगों से विचार-विमर्श करके उसने एक फैसला लिया.. एक दृढ़ फैसला |

घर आया और माँ-पिताजी को कहा, "मैं देश के लिए काम करना चाहता हूँ, मैं राजनीति में जाना चाहता हूँ" ... इतना कहना था कि पिताजी आवेश में आ गए और कहा कि यह शब्द और सोच अपने ज़हन से निकाल दो.. हमने तुम्हे इसलिए नहीं पढ़ाया है कि तुम इस गन्दगी में पैर रखो.. शादी करके घर बसाओ और शान्ति से रहो.. समाज-सेवा करने के लिए और भी लोग हैं.. राजनीति में मेरी लाश पर चढ़कर ही हिस्सा लेना..

मोहित फटा सा देखता और सुनता रहा.. सोचा कि सफाई सबको चाहिए पर भगत सिंह तो पड़ोस से ही हो.. वह अपने निश्चय की दृढ़ता पर सोचता हुआ अपने कमरे में आ गया और इस तरह एक भावी, शिक्षित और युवा राजनेता का क़त्ल हो गया..

14 टिप्‍पणियां:

  1. yahi haal hai sir badlaav sab chahte hain..par koi aur kare ham taaliyan aur mombattiyan leke baithe hain..

    उत्तर देंहटाएं
  2. anek mata- pita apne ht ke karn bachcho ke telent ko dafan kr dete hai.utto jago vicharo aur jiddi mata pita ke khilaf kranti ka bigal bja do.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आईये जाने .... प्रतिभाएं ही ईश्वर हैं !

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. मां-बाप ने सही सलाह दी, इस गंदी राजनीति में हरीशचंद जैसे डगमगा जाए वो क्या था !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसा ही होता है!!

    उम्दा कथा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut sahi likha PM.....aur Godiyal ji ko samajhna chahiye ki ek aadmi kya kya kar sakta hain iski koi seema nahi hain :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. अल्टिमेट अपडेट ऑफ दिस ब्लॉग.......लव्ड इट :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. As many above have said, a good observation of what's happening in our society. Reminds me of the speech that Rahul Bose gave at the Oasis Inaug last year...

    उत्तर देंहटाएं
  9. Politics really need enlightened minds to clean the dirt which is residing since ages.
    The whole system is corrupt. Its a debatable topic what a common man can do. If anything can be changed, it can be done by common man only!
    I think it is quite natural for any parent to get nuts. The Thinking needs to be changed, but it can't be done in 1 day. People are still orthodox about politics and why not. Politics doesn't provide a good development prospect for young minds. Unless the game is neat, it won't attract youngsters.

    उत्तर देंहटाएं
  10. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this site to increase visitor.Happy Blogging!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut bhavuk or bilkul sahi likha hai aapne..
    Meri Nai Kavita padne ke liye jaroor aaye..
    aapke comments ke intzaar mein...

    A Silent Silence : Khaamosh si ik Pyaas

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..