नया क्या?

मंगलवार, 8 सितंबर 2009

YSR - जीवित या मृत ?

 
श्रद्धांजलि और नमन
पोस्ट का शीर्षक पढ़कर चौंकिए मत..
मैं कोई जासूसी भरी पोस्ट नहीं कर रहा हूँ.. क्योंकि जासूसी आती नहीं और कोशिश की थी तो मुंह की खानी पड़ी थी (पूछियेगा मत किस तरह की जासूसी)

पिछले हफ्ते बहुत हल्ला हुआ.. हर जगह, हर टीवी चैनल, हर अख़बार बस एक ही बात उगल रहे थे.. वाई॰एस॰आर॰ कहाँ हैं? आखिर उनका उड़नखटोला कहाँ गया? और एक दिन बाद ही यह दुखद समाचार पूरे देश में आग की तरह फ़ैल गयी कि एक महान राजनीतिज्ञ की अकस्मात मृत्यु हो गयी है..

मैंने भी इस खबर को अच्छी तरह से अनुसरण किया था और इस सिलसिले में ऑफिस के लोग भी शामिल थे..
जो लोग यहाँ आंध्र से हैं, उनसे जब पूछा कि आपको दुःख है? क्या आप वाई॰एस॰आर॰ को बहुत मानते थे? तो जवाब ५०-५० था.. कोई कहता कि वो सही में एक महान इंसान थे तो कोई कहता कि उन्हें लगता है कि वाई॰एस॰आर॰ दूसरे भ्रष्ट नेताओं की श्रेणी में आते थे (माफ़ कीजियेगा.. मैं यहाँ अपनी राय नहीं दे रहा हूँ और न ही मैं किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने की कोशिश कर रहा हूँ.. और मेरे ख्याल में वाई॰एस॰आर॰ बहुत ही उच्च कोटि के राजनीतिज्ञ थे..)

जब घर आया तो वहां पर भी दोस्तों से भी यही बातचीत हुई..
पता नहीं कितने लोगों ने गौर किया कि नहीं.. पर न्यूज़ में इस देहांत के साथ-साथ यह भी बताया जा रहा था कि आंध्रप्रदेश में एक दिन के लिए सभी स्कूल, बैंक, सरकारी दफ्तर और अन्य सभी दफ्तर बंद रहेंगे..
अब मेरा प्रश्न ये है - क्या एक महान आत्मा के इस संसार के चले जाने पर हम अपनी सहानुभूति एक दिन काम न करके दिखाना चाहते हैं? माना कि शोक सबको है..(आजकल तो एक कुत्ता भी मर जाता है तो पूरा परिवार महीने भर के शोक में चला जाता है.. वो बात अलग है कि सामने बैठा भिखारी अगर भूख या ठण्ड से मर जाए तो वही लोगों के कान में जूं तक न रेंगेगी).. 

पर शोक का मतलब यह है क्या कि एक दिन हम काम नहीं करेंगे पर सिर्फ रोएंगे? एक कर्मठ इंसान की मृत्यु पर ऐसा होना ही उस इंसान की कर्मठता को नकारता हुआ नज़र आता है.. बहुत दुःख की बात है कि राजनीति अपने पाँव किसी के मृत्यु पर भी पसार लेती है.. पता नहीं इस एक दिन में पूरे देश को कितने करोड़ रुपयों का नुक्सान होगा.. पता नहीं कितने उस दिन भूखे पेट सोएंगे.. पता नहीं कितने बच्चे उस एक दिन की पढ़ाई से वंचित रह जाएँगे.. और पता नहीं हम अनजाने में ही उस महान आत्मा की प्रतिष्ठा में कितने छेद करेंगे..
जो इंसान हर दिन जी-जान से राज्य को और साथ-साथ देश को आगे बढाने में लगा हुआ था, आज उसी के निधन पर देश कितना पीछे हो जाएगा..
बात बड़ी मामूली सी लगती है पर अगर हम सच्चे दिल से उस शख्स को श्रद्धांजलि देना चाहते हैं तो उस दिन हमें एक संकल्प लेना चाहिए था कि
आज से हम एक..सिर्फ एक अच्छा काम अपनी ज़िन्दगी में करेंगे...
आज हम अपने अन्दर से एक बुराई को मिटा देंगे..
आज से हम सिर्फ एक ही सही... पर बुराई के खिलाफ लड़ेंगे..
पर नहीं यह कोई नहीं कर सका.. करोडों के लिए वो एक दिन सिर्फ छुट्टी मात्र थी.. और मेरी मानिए... उनमें से हजारों को तो यह भी नहीं पता होगा कि छुट्टी क्यों मिली है या वाई॰एस॰आर॰ कौन थे? यह देश की विडम्बना ही समझिये या लोगों की मुर्खता पर मैं यह आपको अपने व्यक्तिगत अनुभव से कह रहा हूँ - जब बंगलोर में स्वाइन फ्लू से कई लोगों की मौत हुई तो मैंने अपने ऑफिस में एक व्यक्ति के दूसरे से यह पूछते हुए सुना - "ये स्वाइन फ्लू क्या है?" मैं उस समय न तो हंस सका कि ऐसे लोग भी है.. और न ही रो सका कि आजकल के लोग कितनी छोटी सोच के होते जा रहे हैं..(ठीक जिस तरह कंप्यूटर हो रहा है.. एक अच्छा उदाहरण है)
और इसपर एक और बात.. आंध्र का एक स्थानीय चैनल वाई॰एस॰आर॰ की शैया का सीधा प्रसारण कर रहा था | लोगों की भीड़ उमड़ रही थी और लोग उनपर फूल मालाएं चढ़ा रहे थे.. तभी टीवी के परदे पर नीचे ही नीचे एक ऐड आया : उसमें यह पूछा जा रहा था - क्या आपको लगता है जगन (जो कि वाई॰एस॰आर॰ के पुत्र हैं) अगला मुख्यमंत्री बनेंगे? हाँ/ना में उत्तर xxxxxx नंबर पर एस.एम.एस करें |
यह देख कर तो मन जैसे फट सा गया हो.. मोबाइल कंपनियों के लिए तो यह देहांत भी पैसे बनाने का जरिया बन गयी है.
बहुत ही दुःख हुआ पर कर भी क्या सकते हैं?
नहीं..
हम बहुत कुछ कर सकते हैं..
उस दिन से मैंने प्रण लिया है कि अब हर पोस्ट के साथ एक ऐसा संकल्प लूँगा जो मुझे एक अच्छा इंसान बनेगा..
और इसी सिलसिले में मैं आज यह छोटा सा प्रण लेता हूँ :
आज से मैं अपने आसपास के इलाकों को गन्दा नहीं करूंगा.. मैं जहाँ-तहां चीज़ें फेंककर वातावरण को दूषित नहीं करूंगा |


है यह एक छोटा सा काम पर मुझे पता है.. कम से कम मेरी वजह से गन्दगी तो नहीं फैलेगी..
अगर आप भी इस छोटे से काम में मेरे साथ हैं तो मेरे लिए बहुत ख़ुशी की बात है..
कहते हैं - एक-एक कतरा ही पहाड़ बनाता है..
तो क्या आप वो राई बनना चाहते हैं जो एक सदृढ़ और सशक्त "अच्छाई के पहाड़" को जन्म देगा ?
अगर आपका उत्तर हाँ है तो स्वागत है..और आप दूसरे लोगों को भी इसमें शामिल करें..
और अगर ना है तो...फिर कभी.. वो कहते हैं ना..ये ज़िन्दगी बहुत लम्बी है - जब तक वाई॰एस॰आर॰ की तरह मौत अचानक से बुलावा न दे तब तक..
तो आप ज़िन्दगी और मौत से खेलते रहिये.. तब तक मैं समाज सुधार में थोड़ा हाथ बढ़ाता हूँ..
और आप यूँ ही मंथन करते रहिये.. क्या वाई॰एस॰आर॰ की मृत्यु हो गयी है? या वो आज भी अपने अच्छे काम से हम सभी के बीच जीवित हैं और हम सभी को प्रेरणा दे रहे हैं?

तब तक के लिए खुदा हाफिज़.. नमस्कार..


इस पोस्ट का गाना : अनजानी राहों में तू क्या ढूंढता फिरे (लकी अली)
गानों के बोल आप यहाँ देख सकते हैं..

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर विचार हैं आपके .. आपसे सहमत हूं !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तन से तो चले ही गये हैं, लोगों के मन पर अब भी राज कर रहे हैं वहाँ..

    उत्तर देंहटाएं

ज़रा टिपिआइये..